NEET का फुल फॉर्म है-National Eligibility Cum Entrance Test. हमारे भारत में मेडिकल एजुकेशन से जुड़े कोर्स एमबीबीएस एवं बीडीएस में एडमिशन लेने के लिए एक क्वालीफाई एंट्रेंस एग्जाम होता है।

इस एग्जाम को क्लियर करने के लिए स्टूडेंट को इन कोर्सेज में एडमिशन मिल जाता है National Testing Agency यानी NTA को NEET एग्जाम कंडक्ट करती है। NEET एग्जाम दो लेवल पर होते हैं UG और PG .

इस एग्जाम को क्लियर करने के लिए स्टूडेंट को इन कोर्सेज में एडमिशन मिल जाता है National Testing Agency यानी NTA को NEET एग्जाम कंडक्ट करती है। NEET एग्जाम दो लेवल पर होते हैं UG और PG .

यह 5.5 वर्ष का कोर्स होता है जिसमें 4.5 वर्ष का एकेडमिक पढ़ाई और 1 साल की इंटर्नशिप होती है।

NEET कितने साल का होता है?

हर सब्जेक्ट से 45 सवाल पूछे जाते है और हर सब्जेक्ट से 180 मार्क्स के प्रश्न होते है. मतलब की आप से कुल 180 सवाल पूछे जायेंगे जो कुल मिलाकर 720 मार्क्स के होंगे

नीट एग्जाम में कितना मार्क्स होंगे?

NEET Exam को क्वालीफाई करने के बाद ही विद्यार्थी को डॉक्टर बनने के लिए मेडिकल कॉलेज में MBBS, BDS, और Ayush (आयुर्वेद) जैसे कोर्सो में एडमिशन मिलता है।

नीट से क्या बनते है?